मकर संक्रांति कब है

मकर संक्रांति कब है

मकर संक्रांति एक ऐसा त्योहार है जो हर साल 14 जनवरी को भारत और नेपाल में मनाया जाता है। यह उत्तरी गोलार्ध की ओर सूर्य की यात्रा की शुरुआत का प्रतीक है, जिसे शुभ माना जाता है। यह शीतकालीन संक्रांति के अंत और लंबे दिनों की शुरुआत का प्रतीक है।

लोग इस त्योहार को पवित्र नदी में डुबकी लगाकर और अनुष्ठान करके और तिल (तिल) और गुड़ से बनी पारंपरिक मिठाई खाकर मनाते हैं। यह एक फसल त्योहार भी है और लोग पिछले वर्ष की भरपूर फसलों के लिए धन्यवाद देते हैं। यह पतंगबाजी उत्सव के लिए भी जाना जाता है।

मकर संक्रांति कब है 14 को कि 15 को? इस साल कब है मकर संक्रांति

मकर संक्रांति 14 जनवरी को हर साल मनाई जाती है, लेकिन कुछ स्थानों पर यह 15 जनवरी को भी मनाई जा सकती है। इस साल 2023 में मकर संक्रांति 15 जनवरी को है ।

मकर संक्रांति में क्या है खास?

“Makar Sankranti” हिंदू पंचांग के अनुसार हिंदू कैलेंडर के अंत में होने वाले संक्रांति है। यह संक्रांति सम्पूर्ण भारत में धूमधाम से मनाई जाती है। यह संक्रांति सूर्य के मकर राशि में प्रवेश के दिन को मनाती है। यह संक्रांति धार्मिक और खेल के साथ-साथ कई त्यौहारों को मनाने के लिए प्रयोग की जाती है।

मकर संक्रांति निबंध

“Makar Sankranti” हिंदू कैलेंडर के अनुसार सम्पूर्ण भारत में धूमधाम से मनाई जाने वाली संक्रांति है। यह संक्रांति सूर्य के मकर राशि में प्रवेश के दिन को मनाती है। इस संक्रांति को धार्मिक और खेल के साथ-साथ कई त्यौहारों को मनाने के लिए प्रयोग किया जाता है।

यह संक्रांति धन और सुख के लिए धन्यवाद करने के लिए प्रयोग की जाती है। यह संक्रांति सूर्य के स्वरुप में पूजा की जाती है। यह संक्रांति समूचे के लिए समूचे के बगल में भगवान सूर्य को स्वागत करने के लिए प्रयोग की जाती है।